शुक्रवार, 17 जून 2011

भारत माँ को नमन

भारत माँ को नमन
अपनी जमीन सबसे प्यारी है ;
अपना गगन सबसे प्यारा है ;
बहती सुगन्धित मोहक पवन ;
इसके नज़ारे चुराते हैं मन ;
सबसे है प्यारा  अपना वतन ;
करते हैं भारत माँ को नमन 
वन्देमातरम !वन्देमातरम !
करते हैं भारत माँ ! को नमन .
उत्तर में इसके हिमालय खड़ा ;
दक्षिण में सागर सा पहरी अड़ा ;
पूरब में इसके खाड़ी बड़ी ;
पश्चिम का अर्णव करे चौकसी ;
कैसे सफल हो कोई दुश्मन ! 
करते हैं भारत माँ को नमन !
वन्देमातरम !वन्देमातरम !
करते हैं भारत माँ! को नमन .

हम तो सभी से बस इतना कहें ;
हिन्दू मुसलमान मिलकर रहें ;
नफरत की आंधी अब न चले;
प्रेम का दरिया दिलों में बहे ;
चारों दिशाओं में हो अमन ;
करते हैं भारत माँ! को नमन !
वन्देमातरम!वन्देमातरम!
करते हैं भारत माँ !को नमन .
                          जय हिंद !
                                                 शिखा कौशिक   

7 टिप्पणियाँ:

Arunesh c dave ने कहा…

हम तो सभी से बस इतना कहें
हिन्दू मुसलमान मिलकर रहें

vande mataram

Dr. shyam gupta ने कहा…

सुन्दर...
वन्देमातरम!वन्देमातरम!
करते हैं भारत माँ !को नमन .
जय हिंद !

शालिनी कौशिक ने कहा…

shikha ke blogs me pareshani ke chalte ye sundar kavita mujhe yahan dalni padi hai ye mere liye garv ka vishay hai.kavita unki aawaz me bahut bhavpoorn ban padi hai.

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

अति सुन्दर .....
जय हिंद................वन्दे मातरम्
कोटि-कोटि नमन अपने भारत वर्ष को ...

manu shrivastav ने कहा…

भरा नहीं जो भावों से , बहती जिसमें रसधार नहीं,
वो हृदय नहीं पत्थर है, जिसमे स्वदेश का प्यार नहीं

mahendra srivastava ने कहा…

सुंदर रचना
भारत माता को नमन

शालिनी कौशिक ने कहा…

shikha ki aur se aap sabhi ko utsah vardhan hetu hardik dhanyawad.

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification