शनिवार, 23 अप्रैल 2011

बदलनी है तो मेरी फितरत बदल

इल्तजा
खुदा से करता
मुझे ना बदलना
बदलनी है तो
मेरी फितरत बदल
नफरत को प्यार में
बदल
अन्दर पल रही
निराशा को बदल
मेरे ख्यालों को बदल
उन्हें
उम्मीदों से भर
मेरे चेहरे का नक्शा
बदल
उसे हंसी और
मुस्कराहट से भर
निरंतर सब को खुश
रख सकूं
जहन को
ऐसे जज्बे से भर
23-04-2011
740-162-04-11

7 टिप्पणियाँ:

आशुतोष ने कहा…

बहुत ही सुन्दर ...आशावादी सोच की कृति

हरीश सिंह ने कहा…

बहुत ही सुन्दर

गंगाधर ने कहा…

आशावादी सोच की कृति

poonam singh ने कहा…

सुन्दर

Vaanbhatt ने कहा…

tela ji, dusaron ko khush dekhane ka khayal hi aapki fitrat ko darshata hai...is fitrat ko badalne na dijiye...auron mein bhi aisi fitrat paida ho dua kijiye...

देवेन्द्र ने कहा…

बदलनी है तो
मेरी फितरत बदल
नफरत को प्यार में
बदल
अन्दर पल रही
निराशा को बदल
मेरे ख्यालों को बदल
उन्हें
उम्मीदों से भर

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

Anita ने कहा…

आमीन !

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification