शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

सपने की पीड़ा


इतना आसान नहीं है,
एक सपने को बुनना,

एक सपना देखना..
और उसके सच होने से पहले,उस सपने को तोड़ देना.
इतना आसान नहीं है,
टूटे सपने के लिये उदास होना..

मगर इतना आसान भी नहीं है,
उस सपने की वेदना को सहना,
एक रिसते घाव को,यूँ ही छोड़ देना..
उम्र भर रह रह कर उठती हुई,
उस घाव की टीस को साथ लिये रहना..
इतना आसान भी नहीं है...
इतना आसान नहीं है,अपने आप से भागना..
अपने हाथों से अपने जिस्म के..
किसी हिस्से को काटना..
मगर,
कोई रिसते घाव के साथ,कब तक जिये,
टूटे सपनो के लिए,कब तक पीड़ा सहे..
फिर भी सपने तो सपने होते हैं,
ये पहले भी आते रहें हें,
आगे भी बुने जायेंगे...
कुछ चेहरों को हंसी,
तो कुछ को अंतस की,अनन्त काल की पीड़ा दे जायेंगे...
इतना आसान नहीं है,
इस पीड़ा से पार पाना,
इतना आसान नहीं है,
जिन्दगी से हार जाना..



"आशुतोष नाथ तिवारी"

16 टिप्पणियाँ:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत अभिव्यक्ति ..सपनों के टूटने की पीड़ा को बखूबी उभारा है

मुक्ताभ ने कहा…

SAPANE NEEND SE BADE HOTE HAIN. AAPNE SAPNE KA JO BIMBAANKAN KIYA HAI, VAH MARMIK HAI. AAP HAMARE BLOG PAR AAYE, MUJHE KHUSHI HAI. AASHAA HAI KI MERE BLOG KI NEXT RACHNA PADHANE JAROOR AAYENGE...........!

Atul Shrivastava ने कहा…

भावभरी रचना।
सपनों के आने और टूटने की सुंदर व्‍याख्‍या।
शुभकामनाएं आपको

sushma 'आहुति' ने कहा…

le ke har subah naye sapne main uthi hu,
tut jaate hai mager shaam ke vaado ki tarah....

Patali-The-Village ने कहा…

खूबसूरत अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

Vaanbhatt ने कहा…

inschay hi itna aasan nahin hai peeda se paar pana, per jindagi se har maan lena bhi sambhav nahin hai. khoobsoorat rachna...

आशुतोष ने कहा…

आप सभी का बहुत बहुत आभार सपने की पीड़ा समझने के लिए..

मंगल यादव ने कहा…

आशुतोष भाई बहुत खूबसूरत की है आप ने ।
लेकिन जिन्दगी का कड़वा सच यह भी है कि लोग
जिन्दगी से भागने के लिए गलत रास्ता भी चुन बैठते हैं।

Dr. shyam gupta ने कहा…

है पीडा की सीमा यह, दुख का चिर सुख होजाना....

आशुतोष ने कहा…

मंगल जी..श्याम जी..बहुत बहुत आभार

विशाल ने कहा…

आशुतोष जी,
बहुत ही मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति.
सपनों की पीड़ा को बहुत ही ख़ूबसूरती से व्यक्त किया है आपने.
दिल छूने के लिए आभार.

हरीश सिंह ने कहा…

बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके.,
मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

poonam singh ने कहा…

भावभरी रचना।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 19 - 04 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.blogspot.com/

रश्मि प्रभा... ने कहा…

आसान नहीं है,
एक सपने को बुनना,
एक सपना देखना..
और उसके सच होने से पहले,उस सपने को तोड़ देना...
is dard ko is soch ko sahna aasaan nahi hai

nivedita ने कहा…

सपने तो सपने हैं टूट जायें या संवर जायें चिरप्रतीक्षीत रहते हैं और आंखों को आबाद करते हैं.....

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification