सोमवार, 15 अप्रैल 2013

कट्टरवादी व्यक्ति ही सहिष्णु हो सकता है




जब से बॉब २०१३  की वोटिंग शुरू हुई है ब्लॉगजगत के एक ऐसे गुट में हलचल सी शुरू हो गयी है जो खुद को इस ब्लॉगजगत का खम्बा बना कर पेश किया करता था  । इस चुनाव ने उनको ऐसा आईना दिखाया की उन्हें यही समझ नहीं आ रहा की हँसे या रोएँ ।

यह वही लोग हैं जिन्होंने खुद को बड़ा ब्लॉगर और ब्लॉगजगत का जानकार साबित करने के लिए पिछले २ सालों  में न जाने पब्लिसिटी के कितने हथकंडे अपनाये लेकिन ज्ञान की कमी और लेखनी में दम न होने के कारण उनका नाम केवल उनके मित्रों तक ही सीमित रह गया ।

ताज्जुब की बात तो यह है की अब
5

नवरात्र  की बधाई व शुभकामनाएं

इस समय 'बॉब्स अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार-2013', चर्चा में है। पुरस्‍कार के के लिए ऑनलाइन वोटिंग कराई जा रही है |इस प्रतियोगिता का परिणाम 07 मई को घोषित किया जाएगा और विजेताओं को ये पुरस्‍कार 18 जून 2013 को जर्मनी में प्रदान किए जाएंगे। यह सभी ब्लॉग जब चुने गए हैं तो कुछ ख़ास अवश्य होंगे | कुछ हो या न हो लेकिन इनमे विविधता अवश्य है |

मुझे इस बात की ख़ुशी है की चलो सही मायने में ईमानदारी से पुरस्कार की शुरुआत तो हुई और इस ब्लॉगजगत को टिपण्णी माफियाओं और गुटबंदी जैसे बीम
7

मैं राजनीति पे नहीं लिखा करता लेकिन कभी कभी कुछ ऐसी परिस्थितियां बन जाती हैं कि लिखना ही पड़ता है | राष्ट्रपति चुनाव की सरगर्मियां के बाद अब प्रधानमंत्री पद के लिए जोड़ तोड़ शुरू हों चुकी है|

यह हमारी बदकिस्मती है कि हमने इस विश्व को धर्मो, रंगों और नस्लों में बाँट दिया है और उसी को आधार बना के सत्ता पे कब्जा करने की कोशिश होती रहती है |

प्रधान मंत्री कोई भी बने लेकिन ऐसा होना चाहिए जिसे इंसानियत का धर्म पता हों | किसी भी देश को चलाने वाले के लिए यह आवश्यक है की वो अपने देश के सभी नागरिको को स
1

जौनपुर जो “शिराज़-ए-हिंद“ के नाम से भी मशहूर हैं, भारत के उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। जौनपुर एक शतक तक मध्यकाल में शर्की शासकों की राजधानी रह चुका है |यह शहर गोमती नदी के दोनों तरफ़ फैला हुआ है। गुप्तकालीन मंदिर ,और मुद्राओं का यहाँ पे पाया जाना इस ओर भी इशारा करता है कि गुप्तकाल में यह नगर व्यापार का केंद्र रहा होगा| 1394 के आसपास मलिक सरवर ने जौनपुर को शर्की साम्राज्य के रूप में स्थापित किया और इसे अपने स्वतंत्र राज्य की राजधानी(1394-1479) बनाया | जौनपुर इब्राहिमशाह शर

2 टिप्पणियाँ:

Василий Зуев ने कहा…

वित्तीय प्रणाली को औपचारिक! के बिना ही बना रहता धनराशि आलसी! पंजीकरण - http://azart23.glclub.net

Hitesh Rathi ने कहा…

mere tkniki blog ko bhi samil kre.....
http://hiteshnetandpctips.blogspot.com

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification