शनिवार, 26 नवंबर 2011

बेटी ....प्रेमकाव्य-महाकाव्य. सप्तम सुमनान्जलि---वात्सल्य .......डा श्याम गुप्त....





3 टिप्पणियाँ:

देवेन्द्र ने कहा…

अति सुंदर भावप्रद गीत। सचमुच बेटियाँ बड़े भाग्य से व बड़ी प्यारी होती हैं।

शिखा कौशिक ने कहा…

जो कहें परायाधन तुझको,
वे तो सबही अज्ञानी हैं |
तुम उपवन की कोकिल मैना ,
चहको, करलो मनमानी है ||
bahut sundar .aabhar

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद देवेन्द्र जी व शिखा जी....

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification