शनिवार, 16 फ़रवरी 2013

दुविधा


मेरे कमरे में अब
धूप नहीं आती
खिड़कियाँ खुली रहती हैं
हल्की सी रौशनी है
मन्द मन्द सी हवा
गुजरती है वहाँ से
तोड़ती है खामोशी
या शुरू करती है
कोई सिलसिला
किसी बात के शुरू होने
से खतम होने तक का ।
कुछ पक्षी विचरते हैं
आवाज़ करते हैं
तोड़ देते हैं अचानक
गहरी निद्रा को
या आभासी तन्द्रा को ।
कभी बिखरती है
कोई खुशबू फूलों की
अच्छी सी लगती है
मन को सूकून सा देती है
पर फिर भी
नहीं निकलता
सूनापन वो अकेलापन
एक अंधकार
जो समाया है कहीं
किसी कोने में ।
©दीप्ति शर्मा


3 टिप्पणियाँ:

Василий Зуев ने कहा…

वित्तीय प्रणाली को औपचारिक! के बिना ही बना रहता धनराशि आलसी! पंजीकरण - http://azart23.glclub.net

Василий Зуев ने कहा…

वित्तीय प्रणाली को औपचारिक! के बिना ही बना रहता धनराशि आलसी! पंजीकरण - http://azart23.glclub.net

Василий Зуев ने कहा…

वित्तीय प्रणाली को औपचारिक! के बिना ही बना रहता धनराशि आलसी! पंजीकरण - http://azart23.glclub.net

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification