सोमवार, 18 जुलाई 2011

सबसे प्राचीन ..भोले -भंडारी .....

                         भोले भंडारी को प्रिय मास श्रावण क्यों है.... क्योंकि श्रावण श्रंगार का महीना है , श्रृंगार के पर्व का मास है ...और भोले -भंडारी हैं श्रृंगार के आदि देव ...वेदों में वे रूद्र देव हैं जो सृष्टि की नियमितता व क्रमिक स्वचालित प्रक्रिया हेतु  चिंतित ब्रह्मा के उद्धार हित प्रकट हुए .....अर्ध-नारीश्वर रूप में ...और स्वयं को विभाजित करके नर व नारी के विभिन्न भावों में प्राकट्य होकर प्रत्येक जड़-जंगम -जीव में समाहित हुए ...और तभी से सृष्टि में नर-नारी भाव, योनि-लिंग  रूप भाव से मैथुन सृष्टि का आविर्भाव हुआ ...सृष्टि की स्व-चालित उत्पादन-प्रजनन  प्रक्रिया......|  शायद वह यही सुन्दर-सुखद-सुहावन-सुसमय - मास रहा होगा जिसे बाद में श्रावण का नाम दिया गया होगा |       ...... अर्धनारीश्वर ----------->
                           

                
            वेदों के पश्चात भोले भंडारी का  ..पशुपति रूप ..सर्व प्रथम विश्व की सबसे प्राचीन  सभ्यता-संस्कृति हरप्पा-मोहनजोदडो में  मोहरों (सीलों --stamps)  पर अंकित  मिलता है , इसी के साथ लिंग-योनि  के  पाषाण रूप भी...
               ऊपर    चित्र  ०१ --पशुपति नाथ (शिव अपने बैल  नंदी सहित  (शायद?)आदि-मात्र  देवी ( जो शायद बाद में अम्बा , पार्वती , दुर्गा रूपा हुई )..के सम्मुख अर्चना करते हुए  सर पर बैल या  बृषभ का मुखौटा या हेड-गीयर  जो पशुपति नाथ का प्रतीक होगा .....आदि-काल में मात्र-सत्तात्मक समाज रहा होगा ...चारों ओर सप्त -मातृकाएं या आदि-देवी  की सहायिकाएं, अनुचारियाँ आदि....
                 मध्य में चित्र-२ .. आदि पशुपति शिव ..... समाधिष्ठ  अवस्था में ...योग मुद्रा में ...जो योग की, ध्यान की  आदि-मुद्रा है ....पद्मासन ....
                 नीचे के चित्र-३ में ...खुदाई में प्राप्त ...शिव लिंग व योनि- के प्रतीक पाषाण मूर्तियां ...जो शायद शिव-शक्ति व लिंग-योनि पूजा के आदि-तम रूप हैं .....
                                                                       ------------सभी चित्र ..साभार...

2 टिप्पणियाँ:

prerna argal ने कहा…

bahut achchi jaankaari dene ke liye dhanyawaad.bahut achcha lekh.badhaai aapko.



please visit my blog.thanks

शिखा कौशिक ने कहा…

श्याम जी बहुत अच्छी जानकारी प्रेषित की है आपने इस पोस्ट के माध्यम से .आभार

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification