रविवार, 15 मई 2011

प्रेम काव्य-महाकाव्य-- गीत----सरिता-संगीत.(-सुमनान्जलि-४.--प्रकृति -क्रमिक..).-- डा श्याम गुप्त



  ------ प्रेम के विभिन्न  भाव होते हैं , प्रेम को किसी एक तुला द्वारा नहीं  तौला जा सकता , किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता ; वह एक विहंगम भाव है | प्रस्तुत  चतुर्थ -सुमनांजलि- प्रकृति - में प्रकृति में उपस्थित प्रेम के विविध उपादानों के बारे में,  नौ विभिन्न अतुकान्त गीतों द्वारा प्रस्तुत किया गया है जो हैं--भ्रमर गीत, दीपक-राग, चन्दा-चकोर, मयूर-नृत्य , कुमुदिनी, सरिता-संगीत, चातक-विरहा, वीणा-सारंग व शुक-सारिका... । प्रस्तुत है   षष्टः गीत----सरिता संगीत ....


नदिया !
तुम कहाँ जाती हो ?
दिशाहीन , उद्देश्यहीन,
कभी खिलखिलाती हुई-
उच्छ्रंख्ल बालिका की  तरह,
पत्थरों से टकराकर, उछलती हुई |
कभी गहराकर, गंभीर  समतल में -
सोचती सी बहती हुई, 
लहराती हुई |
और अंत में होजाती हो,
सागर में विलीन,
अस्तित्वहीन ||

नदिया मुस्कुराई ,
कल कल कल कल , खिलखिलाई ;
फिर लहर लहर लहराई |
यह जीवन लहरी है,
कहीं उथली ,
कहीं गहरी है |
यह जीवन धारा है,
प्रेम प्रीति का रस न्यारा है  ||

प्रियतम की डोर बांधे,
मन को साधे ,
जीवन की ऊंची-नीची, डगर डगर-
चलते जाना ही तो जीवन है |
प्रेम की साध लिए,
प्रियतम की राह में ;
मिलने की आस लिए,
चलना ही रीति है ;
यही तो प्रीति है |
सर्वस्व  लुटा देना,
अपने को भुला देना ,
अस्तित्व विहीन होकर;
प्रिय में लय कर देना ,
यह प्यार की जीत है;
यही तो प्रीति है ||
 

2 टिप्पणियाँ:

हरीश सिंह ने कहा…

bahut sundar

mahendra srivastava ने कहा…

वाह, क्या बात है. बहुत बढिया

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification