मंगलवार, 10 मई 2011

प्रेम काव्य-महाकाव्य-- गीत--कुमुदिनी--.(-सुमनान्जलि-४.--प्रक्रिति ..).-- डा श्याम गुप्त



  ------ प्रेम के विभिन्न  भाव होते हैं , प्रेम को किसी एक तुला द्वारा नहीं  तौला जा सकता , किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता ; वह एक विहंगम भाव है | प्रस्तुत  चतुर्थ -सुमनांजलि- प्रकृति - में प्रकृति में उपस्थित प्रेम के विविध उपादानों के बारे में,  नौ विभिन्न अतुकान्त गीतों द्वारा प्रस्तुत किया गया है जो हैं--भ्रमर गीत, दीपक-राग, चन्दा-चकोर, मयूर-नृत्य , कुमुदिनी, सरिता-संगीत, चातक-विरहा, वीणा-सारंग व शुक-सारिका... । प्रस्तुत है पंचम  गीत----कुमुदिनी -----
 
 
 
कुमुदिनी !
तुम क्यों खिलखिलाती हो ?
हरषाती हो,
मुस्काती हो 
चाँद को दूर से देखकर ही  ,
खिल  जाती हो |
उसकी प्रतिच्छाया से मिलकर ही-
बहल जाती हो  ||

कुमुदिनी  ने 
शर्माते हुए बताया |
यह जग ही परम तत्व की-
छाया है ,माया है |
भाव में ही सत्य समाता है,
भावना से ही प्रेम-गाथा है  |
भाव ही से तो -
प्रेमी, प्रेमिका में समाया है ;
वही भाव मैंने ,
मन में जगाया है |
मैंने मन में चाँद को पाया है,
तभी तो यह ,
मन-कुसुम खिलखिलाया है  ||
 


3 टिप्पणियाँ:

हरीश सिंह ने कहा…

प्रेम ही जीवन का सार है.

हरीश सिंह ने कहा…

achchhi rachna.

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

अगर आप चाहे तो मेरे इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग कर सकते हैं. आप द्वारा दी दो आँखों से दो व्यक्तियों को रोशनी मिलती हैं. क्या आप किन्ही दो व्यक्तियों को रोशनी देना चाहेंगे? नेत्रदान आप करें और दूसरों को भी प्रेरित करें क्या है आपकी नेत्रदान पर विचारधारा?

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification