सोमवार, 25 अप्रैल 2011

कौन नई बात है !-laghu katha


''तुमने सुना नीलम की बेटी नूतन ने ब्रह्मण होते हुए जाट से शादी कर ली ''कमलेश के यह कहते ही सरोज ने हाथ से मुहं छिपाते हुए कहा ''अरे कौन नई बात है उनके तो घर का ढंग ही बिगड़ा हुआ था लड़कों का तो उनके घर पर पहले ही आना-जाना था ''.सुनकर कमलेश ने कहा पर ऐसे को तो बिरादरी से बाहर कर देना चाहिए ;हाँ बहन होना तो ऐसा ही चाहिए पर आज के समाज में ऐसा करता कौन है ,हम तो बस यह कर सकते हैं की हम उससे बोलचाल बंद कर दें और मतलब ख़त्म कर दें.सरोज कमलेश से यह कह ही रही थी कि सरोज के बेटे ने एक शादी का कार्ड आकर माँ के हाथ में थमा दिया .कार्ड हाथ में आते ही सरोज चहक उठी कहने लगी कमलेश सुनो,''कल शाम को तैयार रहना ,इंजीनियर साहब की बेटी कीशादी का कार्ड मिल गया है तुम्हारा भी तो आ गया होगा ,चलना है.''
माँ के मुहं से यह सुनते ही बेटा जो खड़ा हुआ माँ की ख़ुशी देख रहा था बोला-'माँ !इंजीनियर साहब तो वैश्य हैं और उनकी बेटी भी जाट लड़के से शादी कर रही है और आप वहां जाने की आंटी से बाते कर रही हैं और अभी तो आप नीलम आंटी की बेटी के जाट लड़के से शादी करने पर बहिष्कार की व् मतलब ख़त्म करने की बातें कर रही थी .''सुनकर सरोज बोली -''बेटा !तू नहीं समझता,अभी छोटा है न,ये सब बातें गरीबों के लिए की जाती है इंजीनियर साहब बड़े आदमी हैं ,और बड़े लोगों में ये सब चलता ही रहता है ,उनमे कोई बुराई नहीं है और मुझे सिखाने की जरूरत नहीं है ''.यह कहते हुए कमलेश से कल चलने का वायदा ले लिया .

5 टिप्पणियाँ:

Vaanbhatt ने कहा…

yahi to khasiyat hai hamare samaj ki...galat sahi ka fark karna mushkil ho gaya hai...maya jo na karaye...paise walon ki har baat achchhi hai...chahe paisa kaise bhi kamaya ho...

शिखा कौशिक ने कहा…

samaj ki asliyat kholti laghu katha bahut achchhi lagi .badhai.

हरीश सिंह ने कहा…

sach ka gala aise hi ghaonta jata hai. prernadayak post. aabhar

kase kahun? ने कहा…

sahi kaha hai...gareebon ke liye hi sare niyam kayade hai....ameeron ke liye sab maf...

गंगाधर ने कहा…

sach kaha aapne.

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification