बुधवार, 23 मार्च 2011

प्रेम काव्य-महाकाव्य--प्रथम सुमनान्जलि...वन्दना...आगे...रचयिता---डा श्याम गुप्त

    प्रेम काव्य-महाकाव्य--गीति विधा    
           रचयिता---डा श्याम गुप्त


भारतीय ब्लॉग लेखक मंच पर .... प्रेम महाभारत  के उपरान्त....प्रेम जैसे विशद विषय को आगे बढाते हुए व उसके विविध रंगों को विस्तार देते हुए ...आज से हम  महाकाव्य "प्रेम काव्य " को क्रमिक रूप में पोस्ट करेंगे । यह गीति विधा महाकाव्य में प्रेम के विभिन्न रूप-भावों -- व्यक्तिगत से लौकिक संसार ...अलौकिक ..दार्शनिक  जगत से होते हुए ...परमात्व-भाव एवं मोक्ष व अमृतत्व तक --का गीतिमय रूप में निरूपण  है | इसमें  विभिन्न प्रकार के शास्त्रीय छंदों, अन्य छंदों-तुकांत व अतुकांत  एवं विविधि प्रकार के गीतों का प्रयोग किया गया है |
          यह महाकाव्य, जिसकी अनुक्रमणिका को काव्य-सुमन वल्लरी का नाम दिया गया है -- वन्दना, सृष्टि, प्रेम-भाव, प्रकृति प्रेम, समष्टि प्रेम, रस श्रृंगार , वात्सल्य, सहोदर व सख्य-प्रेम, भक्ति श्रृंगार, अध्यात्म व अमृतत्व ...नामसे  एकादश सर्गों  , जिन्हें 'सुमनावालियाँ' कहा गया है , में निरूपित है |
      प्रथम सुमनांजलि -वन्दना..१० रचनायें--.   जिसमें प्रेम के सभी देवीय व वस्तु-भावों व गुणों की वन्दना की गयी  है .....आगे... .
        ३-उमा-महेश वंदना....
काम मोह को जीत कर,किया काम को ध्वस्त |
ऐसे   औघड़,  सदाशिव,  राहें   करें   प्रशस्त ।
 राहें करें प्रशस्त ,   प्रेम की  महिमा  न्यारी,
प्रेम बसे  भगवान,  प्रेम पर सब बलिहारी ।
 श्याम जब करें पार्वती संग तान्डव शंकर ,
सृष्टि    प्रेम- लय होय, बजे डमरू प्रलयंकर ॥

तीन लोक सब दिशायें, सृष्टि सभी स्तब्ध ।
शिवशंकर के क्रोध से,हुआ काम जब ध्वस्त।
 हुआ काम जब ध्वस्त,करे रति विलाप भारी ,
पति व प्रेम के बिना,जिये कैसे प्रभु! नारी ।          
हो जग में  संचार,  प्रेम की रीति-भाव का,
विनती है,  हे नाथ!  करें उद्धार नाथ का ॥

भोले भन्डारी किया, कामदेव आश्वस्त ,
पृथ्वी  पर फ़िर प्रेम की, राहें हुईं प्रशस्त ।
राहें हुईं प्रशस्त, स्वस्ति यह बचन उचारा,
बन कर रहो अनंग,भाव-रति मन के द्वारा ।
करें ’श्याम' कर बांध, उमा-शम्भू पद वंदन,
कामदेव उर बसे, सजाये प्रेमिल बंधन ॥

        ४- राधा-कृष्ण वन्दना 
राधे श्री,   मन में बसें , राधा मन घनश्याम |
राधा-श्याम जो मन बसें,हर्षित मन हों श्याम ||

लीला राधा-श्याम की, श्याम' सके क्या जान |
जो लीला को जान ले, श्याम रहे ना श्याम ||

राधा कृष्ण सुप्रेम ही, जग की है पहचान 
कौन भला समझे करे, एसा प्रेम महान ||

मेरे उर में बस  रहो, राधा संग घनश्याम |
प्रेम बांसुरी उर बजे,धन्य धन्य  हों श्याम ||

राधा सखियाँ संग हैं, और सखा संग श्याम |
भक्ति रास लीला रचें, रीति चले अविराम ||

राधाजी का रंग  जो,  पड़े श्याम के  रंग  |
हर्षित अँखियाँ होरहीं, देख हरित दुति अंग ||

ललित त्रिभंगी रूप में, राधा संग गोपाल |
निरखि-निरखि सो भव्यता, होते श्याम निहाल ||

अमर -प्रेम के  रंग का, पाना चाहें  ज्ञान |
राधा-नागरि का करें, नित प्रति उर में ध्यान |

'श्याम, खडा करबद्ध जो, राधाजी के द्वार |
श्याम-कृपा तो मिले ही, राधा कृपा अपार ||

हे राधे !  हे राधिके !, आराधिका ललाम |
श्याम करें आराधना, होय राधिका नाम ||

रस स्वरुप घनश्याम हैं , राधा भाव-विभाव |
श्याम भजे रस संचरण, पायं सकल अनुभाव ||  
                                          ----क्रमश : सुमनांजलि प्रथम...वन्दना ...

5 टिप्पणियाँ:

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

शिर्क का समर्थन मैं करूँगा नहीं लेकिन आपके द्वारा आज मिले समर्थन और साधुवाद का शुक्रिया ज़रूर अदा करूँगा .
शुक्रिया .

http://za.samwaad.com/2011/03/7.html?showComment=1300856996917#c1943981379685400164

हरीश सिंह ने कहा…

डॉ. गुप्ता जी, अभी महाभारत का निर्णय लेना है आपको, प्रथम विजेता की घोषणा के पश्चात् महाभारत द्वितीय तक आपका प्रेम पूर्ण रचना का स्वागत है.

Anita ने कहा…

दोनों ही वन्दनाओं को पढ़कर मन झुक जाता है, आभार !

Dr. shyam gupta ने कहा…

dhanyavaad jamaal saahab....va alitaa jee

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद हरीश जी....

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification