शुक्रवार, 7 अक्तूबर 2011

प्रेमकाव्य-महाकाव्य. षष्ठ सुमनान्जलि (क्रमश:)-खंड ग-वियोग श्रृंगार ..गीत चार ....डा श्याम गुप्त

                                     प्रेम -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी 
   एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता; वह एक विहंगम भाव है  | अब तक प्रेम काव्य ..षष्ठ -सुमनान्जलि....रस श्रृंगार... इस सुमनांजलि में प्रेम के श्रृंगारिक भाव का वर्णन किया गया ..तीन खण्डों में ......(क)..संयोग श्रृंगार....(ख)..ऋतु-श्रृंगार तथा (ग).. वियोग श्रृंगार ....में दर्शाया गया है..... 
                 प्रस्तुत है   खंड ग ..वियोग श्रृंगार --जिसमें --पागल मन,  मेरा प्रेमी मन,  कैसा लगता है,  तनहा तनहा रात में,  आई प्रेम बहार,  छेड़ गया कोई,  कौन,  इन्द्रधनुष एवं  बनी रहे ......नौ रचनाएँ प्रस्तुत की जायंगी | प्रस्तुत है.. चतुर्थ गीत... तनहा तनहा रात में ....


तनहा  तनहा रात में आकर,
प्रियतम मुझको तरसाते हो |
        मन में प्यार का दीप जला कर ,
        तम के अंदर  खो जाते हो | --तनहा तनहा..||

मैं कोई  तस्बीर  नहीं हूँ ,
कागद पर तकरीर नहीं हूँ |
सचमुच प्यार है मुझे तुमसे ,
मैं  झूठी  तदबीर नहीं  हूँ |
        मेरे मन की पीर जगा कर ,
       स्वप्न बने क्यों खो जाते हो | ---तनहा तनहा .||

जब शीशे में अक्स तुम्हारा,
मन की भ्रान्ति दिखा देता है |
तुम हो यहीं कहीं पर, एसी-
मन में आस जगा देता है |
       तुम्हें खोजती इन अंखियों को,
       प्रिय इतना क्यों तरसाते हि ? ----तनहा तनहा .||

अब तो अपना रूप दिखा दो ,
दर्पण से  बाहर आजाओ |
अथवा प्यारी निंदिया बनकर,
आकर आंखों  में बस जाओ |
         मेरे मन में सरगम बन् कर ,
         प्रियतम तुम ही तो गाते हो |

  तनहा तनहा रात में आकर,
  तम के अंदर खो जाते हो |||

1 टिप्पणियाँ:

शिखा कौशिक ने कहा…

bahut sundar prastuti .aabhar

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification