रविवार, 16 अक्तूबर 2011

प्रेमकाव्य-महाकाव्य. षष्ठ सुमनान्जलि (क्रमश:)-खंड ग-वियोग श्रृंगार ..गीत ५ ...डा श्याम गुप्त




          प्रेम -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता, किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता; वह एक विहंगम भाव है  | अब तक प्रेम काव्य ..षष्ठ -सुमनान्जलि....रस श्रृंगार... इस सुमनांजलि में प्रेम के श्रृंगारिक भाव का वर्णन किया गया ..तीन खण्डों में ......(क)..संयोग श्रृंगार....(ख)..ऋतु-श्रृंगार तथा (ग).. वियोग श्रृंगार ....में दर्शाया गया है..... 
                 खंड ग ..वियोग श्रृंगार --जिसमें --पागल मन,  मेरा प्रेमी मन,  कैसा लगता है,  तनहा तनहा रात में,  आई प्रेम बहार,  छेड़ गया कोई,  कौन,  इन्द्रधनुष एवं  बनी रहे ......नौ रचनाएँ प्रस्तुत की जायंगी | प्रस्तुत है.. पंचम गीत ...आई प्रेम बहार .....
                       सखि ! आई प्रेम बहार ||
नाचे  मोर,  पपिहरा  बोले ,
मन  भंवरा गुन-गुन कर डोले |
तन  मन भीगें, पड़ें  फुहारें ,
              झूमे मस्त बयार |
                      सखि ! आई प्रेम बहार ||
आये  न प्रीतम अब की बारी,
मैं राहें तक-तक कर हारी |
प्रेम की पाती मिली न कोई,
              कैसे करूँ सिंगार ?
                    सखि ! आई प्रेम बहार ||

कजरारे बादल नभ छाये,
जैसे  प्रेम-संदेशे  लाये |
बरसे-हरसे सब घर आँगन ,
               मैं बैठी मन मार |
                      सखि ! आई प्रेम बहार ||

रोक लिया है किस सौतन ने ,
कर  कर  के  मनुहार |
कान्हा  कैसे  भूल गए  पर ,
          सखि! राधा का प्यार |
                        सखि ! आई प्रेम बहार ||






       

0 टिप्पणियाँ:

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification