रविवार, 25 सितंबर 2011

छिद्रान्वेषण ...एक भाव-विषय .. दो रूप -----हम क्या चाहते हैं.......ड़ा श्याम गुप्त...



.

   शाबास ---महिलायें ज्ञान-विज्ञान के लिए उन्नति शिखर की ओर बढ़ रही हैं | आप यह चाहते हैं .---->
                         .....या....
<-----यह.....

----.इसमें शाबास की क्या बात है, सिर्फ कच्छा पहने युवा लडकियों की तस्वीर ...यहीं से प्रारम्भ होता है मांसलता पर रीझने-रिझाने का दौर...पहले खेल के नाम पर ...फिर फैशन शो...फिर देह-प्रदर्शन...फिर...मधुमिता...कविता.. अंजलि ------हम क्या चाहते हैं.....समाज नारी से क्या चाहता है...उसे कहाँ देखना  चाहता है ....नारी स्वयं क्या चाहती है..??
 
 
      -----और ये भी तो हैं एथलीट....कहाँ है इनका देह-दर्शन ..
 
 

6 टिप्पणियाँ:

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 26-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद गाफिल जी .....

ओम पुरोहित'कागद' ने कहा…

भारतीय ब्लॉग लेखक मंच-बहुत खूब !
आपका काम प्रभावित करता है !
बधाई !
========================
यह प्रविष्टियां अच्छी लगीं-
*छिद्रान्वेषण ...एक भाव-विषय .. दो रूप -----हम क्या चाहते हैं.......ड़ा श्याम गुप्त...
*'युवा-मन' को सशक्त करते : अमित कुमार यादव
*बोल रे परिंदे...कहाँ जाएगा तू......
*सरकार ने दिखाया गरीबों को ठेंगा
*कुर्सी और टोपी में फर्क
जो तेरा है वो तेरा तो नहीं है.....!!!
=======सभी लेखकों को बधाई========

रविकर ने कहा…

आभार ||

आपकी इस प्रस्तुति पर
बहुत-बहुत बधाई ||

Kunwar Kusumesh ने कहा…

अंग प्रदर्शन भारतीय सभ्यता और संस्कृति को तार तार कर रहा है.सही बात उठाई गई है पोस्ट पर.

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद ओम जी, रविकर एवं कुसुमेश जी....

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification