बुधवार, 10 अगस्त 2011

प्रेम काव्य-. षष्ठ सुमनान्जलि--रस श्रृंगार--भाग (ख)-ऋतु शृंगार गीत-२ --डा श्याम गुप्त

              प्रेम   -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता , किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता ; वह एक विहंगम भाव है | प्रस्तुत है ..षष्ठ -सुमनान्जलि....रस श्रृंगार... इस सुमनांजलि में प्रेम के श्रृंगारिक भाव का वर्णन किया जायगा ...जो तीन खण्डों में ......(क)..संयोग श्रृंगार....(ख)..ऋतु-श्रृंगार तथा (ग)..वियोग श्रृंगार ....में दर्शाया गया है.....खंड ख -ऋतु शृंगार-- के इस खंड में विभिन्न ऋतुओं से सम्बंधित ..बसंत, ग्रीष्म, वर्षा, कज़रारे बादल, हे घन !, शरद, हेमंत एवं शिशिर आदि ८ गीत प्रस्तुत किये जायेंगे | प्रस्तुत है  द्वितीय  गीत --ग्रीष्म ...

यूंही प्यार नहीं होजाता ,
कुछ तो कहदो, कुछ तो सुनलो |
मेरी चाहत को प्रिय समझो,
अपने मन की बात बतादो ||

प्रेमी मन है प्यासा मन है,
खिली  धूप है ग्रीष्म सघन है |
पागल मन यदि भटक गया हो ,
मन में प्रिय कुछ खटक गया हो |
जुल्फों की ये छाँह सुहानी ,
प्यारी पुरवा नयनों पानी |
बाहों खिलती रात की रानी ,
मन उपवन की प्रीति पुरानी  |
 
प्रेम  प्रीति मनुहार करो प्रिय,
प्यार करो इज़हार करो प्रिय|
प्यारे मीठे बोल सुनादो,
अपने मन की बात बतादो | ---यूंही प्यार....

पूर्णकाम है कौन जगत में ,
मानव मन भूलों की गठरी |
बात कहोगे बात सुनोगे,
मन की बातें बाँट रहोगे |

दोनों पूर्ण काम होजायें,
सदा प्रीति की रीति निभाएं |
जीवन प्यार-निकुंज बनादो,
अपने मनकी  बात बतादो |.......यूं ही प्यार ...

सघन ग्रीष्म की फांस कटे प्रिय,
प्यास मिटे तन मन की हे प्रिय !
मेरे मन की केसर क्यारी,
तुम परागबनकर महकादों |

आतप में प्रिय, प्रेम-प्रीति की,
एसी ठंडी पवन बहादो |
कुछ सुनलो कुछ मुझे सुनादो,
अपने मन की बात बतादो |

मन के पास तभी मन आता,
यूं ही प्यार नहीं हो जाता |
तुम समझो मुझको समझादों,
आपने मन की बात बतादो ||  ---यूं ही प्यार नहीं....

                                                                   क्रमश:..तृतीय गीत ....वर्षा...




3 टिप्पणियाँ:

मदन शर्मा ने कहा…

बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति...
मेरा आपसे निवेदन है कि 16 अगस्त से आप एक हफ्ता देश के नाम करें, अन्ना के आमरण अनशन के शुरू होने के साथ ही आप भी अनशन करें, सड़कों पर उतरें। अपने घर के सामने बैठ जाइए या फिर किसी चौराहे या पार्क में तिरंगा लेकर भ्रष्टाचार के खिलाफ नारे लगाइए। इस बार चूके तो फिर पता नहीं कि यह मौका दोबारा कब आए।

मदन शर्मा ने कहा…

बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति...
मेरा आपसे निवेदन है कि 16 अगस्त से आप एक हफ्ता देश के नाम करें, अन्ना के आमरण अनशन के शुरू होने के साथ ही आप भी अनशन करें, सड़कों पर उतरें। अपने घर के सामने बैठ जाइए या फिर किसी चौराहे या पार्क में तिरंगा लेकर भ्रष्टाचार के खिलाफ नारे लगाइए। इस बार चूके तो फिर पता नहीं कि यह मौका दोबारा कब आए।

Dr. shyam gupta ने कहा…

धन्यवाद , शर्मा जी....

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification