शनिवार, 25 जून 2011

साथ

साथ
हर दुःख को हम सह जाते हैं;
आंसू अपने पी जाते हैं ;
जब तक मौत नहीं आती
जीवन का साथ निभाते हैं .

हर दिन आती हैं बाधाएँ;
पैने कंटक सी ये चुभ जाएँ;
दुष्ट निराशा तेज ताप बन
आशा-पुष्पों को मुरझाएं;
फिर भी मन में धीरज धरकर
पग-पग बढ़ते जाते हैं .
जब तक .......

पल-पल जिनके हित चिंतन में
उषा-संध्या-निशा बीतती ;
वे अपने धोखा दे जाते
घाव बड़े गहरे दे जाते ,
भ्रम में पड़कर ;स्वयं को छलकर
नया तराना गाते हैं .
जब तक मौत .....

अपमान गरल पी जाते हैं;
कुछ कहने से कतराते हैं ;
झूठ के आगे नतमस्तक हो
सच को आँख दिखाते हैं ;
आदर्शों का गला घोटकर
हम कितना इतराते हैं !
जब तक ......
शिखा कौशिक

3 टिप्पणियाँ:

शालिनी कौशिक ने कहा…

साथ हर दुःख को हम सह जाते हैं;आंसू अपने पी जाते हैं ;जब तक मौत नहीं आतीजीवन का साथ निभाते हैं .हर दिन आती हैं बाधाएँ;पैने कंटक सी ये चुभ जाएँ;दुष्ट निराशा तेज ताप बन आशा-पुष्पों को मुरझाएं;फिर भी मन में धीरज धरकरपग-पग बढ़ते जाते हैं
dil ko chhone vali kavita likhi hai aapne aabhar.

sushma 'आहुति' ने कहा…

sarthak abhivakti....

rubi sinha ने कहा…

sundar abhivyakti

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification