गुरुवार, 23 जून 2011

क्या  दोनों तरफ से निकल चुकी हैं, तलवारें  म्यानों से ,
क्या फिर निकलेगा जन-सैलाब, अपने आशियानों से ,

फिर क्या हुंकार भरेगा 'अन्ना' का जन्तर- मन्तर,
या समय प्रदर्शित करेगा, कोई अद्भुत  अंतर ,

बड़े असमंजस में  है जनमानस, इस अवसर पर ,
बीच चौराहे  देश खड़ा, खुद को पाता  है अक्सर , 

क्या मंशा है ?किसकी सच्ची ?ये फैसला कौन करे ,
 बिल जन लोकपाल का  हो पास,  ये हौसला कौन करे ,

'कमलेश' क्या विडम्बना है ! इस  देश के लिए ,
खून बहाना पड़ता है ,इक राजसी आदेश के लिए..  जय हिंद !!

2 टिप्पणियाँ:

rubi sinha ने कहा…

achchhi rachan,

Dr. shyam gupta ने कहा…

खून बहाना पड़ता है ,इक राजसी आदेश के लिए

सटीक रचना ...

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification