गुरुवार, 9 जून 2011

क्या दिल हमेशा सही राय देता है?


हते हैं कि दिल हमेशा सही होता है और आपको किसी भी बात पर या सोच पर अपनी राय सही और सकारात्मक दिशा में ही देता है. अगर आप कोई भी कार्य करने जा रहे हैं जो ग़लत है तो दिल आपको आगाह कर देता है कि यह कार्य सही नहीं है. ख़ुद पर आज़मा कर देखिये कि क्या यह सही राय नहीं देता !? अगर आप शराब पीते हैं तो भले ही आप शराब पी कर खुश होते हों मगर पीने के चन्द क्षणों पहले ही आपका दिल आपको आगाह कर देता है कि शराब पीना ग़लत बात है और आपको नुक्सान ही पहुंचाएगी लेकिन आप तुरन्त दिल की बात को नज़र अन्दाज़ करने के लिए कहता है और आप शराब को पीने लगते हैं. इसी तरह के तमाम वो काम जो कि ग़लत हैं को करने से पहले दिल फ़ौरन मना कर देता है. 

लेकिन सवाल है कि दिल के लाख मना करने के बावजूद इंसान ऐसा क्यूँ करता है? कभी सोचा है आपने !? चलिए मैं बताता हूँ... ! उसकी एक वजह है जिस इन्सान के दिल और दिमाग़ में कोई कालापन नहीं होता है वह अपने दिल या दिमाग़ दोनों की संतुष्टि के बाद कोई भी ऐसा कार्य नहीं करता है और सही और सकारात्मक रास्ते को अख्तियार कर लेता है वहीँ जिन इन्सान के दिलों में कालापन भरा होता है उसका दिल भी सही काम करने के लिए आगाह नहीं करता बल्कि ग़लत कार्य करने के लिए उकसाता है. यही वजह है कि इन्सान तमाम ऐसे ग़लत कार्य करता ही चला जाता है और उसमें सुधार की गुन्जाईश ख़त्म हो जाती है. वह इन्सान तभी सुधरता है जब उसके ग़लत कार्य का घड़ा भर जाता है अथवा उसको उनके कृत्य की भरपूर सज़ा मिल जाती है. कुछ लोग तो उसके बाद भी अपना उक्त प्रकार का कृत्य जारी रखते हैं और ज़िन्दगी भर अँधेरे में ही जीवन व्यतीत कर देते हैं क्यूंकि उनको उन अंधेरों में ही मज़ा आता है.

कुरआन में लिखा है -   "वे बहरे हैं, गूंगे हैं, अंधे हैं और वे अब लौटने के नहीं.- सुरह अल-बकरा, अध्याय-2, श्लोक-18

3 टिप्पणियाँ:

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

सही कहा आपने...

दिल कहें या आत्मा , हमेशा कुछ भी गलत करने से पहले रोकता है किन्तु चंचल मन हमेशा उसी ओर भागता है जिसका वर्जन होता है | ऐसे में विवेक ही सही फैसला ले सकता है मगर शर्त यह है कि व्यक्ति विवेकवान है या विवेकहीन हो चुका है |

Dr. shyam gupta ने कहा…

-----और वो कालापन कहाँ से आता है ???? क्या इसके लिए दिल मना नहीं करता ....पहले कालापन व्यक्ति में आता है तब कालापन के दिल वाला व्यक्ति गलत कार्य करता है या गलत कार्य करते करते कालापन आजाता है...क्या सही है...
---ये व्याख्या आपकी अपनी है या कुरान के सुरह का व्यख्यार्थ ...
----"वे बहरे हैं, गूंगे हैं, अंधे हैं और वे अब लौटने के नहीं....का अर्थ वह नहीं जो आप बता रहे हैं ...आप कुरान का अर्थ ही नही समझे ...इस का अर्थ है कि वे लोग जो शास्त्रों के बारे में न जानते हैं, न उनको मानते हैं, न उन पर चलना चाहते हैं...वे अधर्मी, अज्ञानी किसी भी कार्य में सफल नहीं हो सकते ...

sushma 'आहुति' ने कहा…

sarthak lekh...

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification