सोमवार, 20 जून 2011

हर जिंदगी का मोड़ ..!!

हर मोड़ जिंदगी का लगे , है इक सीधा रास्ता ,
जिसके हर मोड़ से लगे ,है सीधा वास्ता ,

उन लम्हों को सजा रखा है, दिल के फूलदानों में ,
हसरतों ने महफूज़ किया ,जिन्हें वक्त के तूफानों में ,

नजर भर कर देखें तो कहते ,क्या हुआ प्यार है ,
ना देखा जब उस नजर से ,तो हुआ जीना दुश्वार है ,

इस कदर हो बंदिशें जमाने की, जिन्दगी जीने पर ,
तो जमाना क्यों हलकान होता है, हमारे पीने पर ,

मिले सबको किसी की चाहत ,ये नही कोई जरूरी है ,
दुनिया में कितनो की अब तक, हसरत रही अधूरी है ,

'कमलेश' कभी वक्त की कश्ती रुकी नही किनारे पर ,
किनारा खुद मिले कश्ती को, वक्त के इशारे पर

2 टिप्पणियाँ:

ana ने कहा…

bahut hi sundar likha hai apne.....bhashapravah ati sundar

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut hi sunder bhaav abhivakti ki apne...

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification