सोमवार, 2 मई 2011

खेल

मृत्यु के समक्ष हम सब निरुत्तर हैं .न कोई तर्क -न कोई बहस ! प्रभु के इस खेल से कठोर शायद ही कुछ हो .प्रिय ''उपेन्द्र ''को श्रद्धांजलि स्वरुप -

 जन्म के ही साथ मृत्यु  जोड़  देता है ;
हे प्रभु ! ये खेल कैसे खेल लेता है ?
************************************
माता -पिता की आँखों क़ा जो है उजाला ;
अंधे की लाठी और घर क़ा जो सहारा ;
ऐसे ''श्रवण '' को भी निर्मम छीन लेता है.
हे प्रभु !ये खेल कैसे खेल लेता है ?
******************************************
हाथ में मेहदी रचाकर ,ख्वाब खुशियों के सजाकर ,
जो चली फूलों पे हँसकर ,मांग में सिन्दूर भरकर ,
ऐसी सुहागन क़ा सुहाग छीन लेता है .
हे प्रभु ! ये खेल कैसे खेल लेता है ?
******************************************
जन्म देते ही सदा को सो गयी ,
चूम भी न पाई अपने लाल को ,
नौ महीने गर्भ में रखा जिसे ,
देख भी न पाई एक क्षण उसे ,
दुधमुहे बालक की जननी छीन लेता है .
हे प्रभु ! ये खेल कैसे खेल लेता है ?
*******************************************
बांहों क़ा झूला झुलाता ,घोडा बनकर जो घुमाता ,
दुनिया क्या है ? ये बताता ,गोद में हँसकर उठाता ,
ऐसे पिता क़ा साया सिर से छीन लेता है .
हे प्रभु ये खेल कैसे खेल लेता है ?
******************************************
याद में आंसू बहाता ,राह में पलके बिछाता ,
हाथ में ले हाथ चलता ,तारे तोड़ कर वो लाता   ,
ऐसे प्रिय  को क्यूँ प्रिया से छीन लेता है .
हे प्रभु ये खेल कैसे खेल लेता है ?
********************************************
छोड़कर सुख के महल जो दुःख के बन में साथ थी ,
जिसके ह्रदय में हर समय श्री  राम नाम प्यास थी ,
ऐसी सिया को राम से क्यूँ  छीन लेता है ?
हे प्रभु ये खेल कैसे खेल लेता है ?
**********************************************
             *******************
               ***************
शिखा कौशिक 

3 टिप्पणियाँ:

शालिनी कौशिक ने कहा…

bahut sahi dhang se aapne ye karya kiya hai.

mahendra srivastava ने कहा…

वाकई बहुत बढिया

हल्ला बोल ने कहा…

हर जीव इस पृथ्वीलोक पर ईश्वर द्वारा सौंपे गए कार्यों को पूर्ण करने आता है, जब वे कार्य समाप्त हो जाते हैं तो उन्हें वापस बुलाकर ईश्वर दूसरे कार्य सौंप देता है. इसी को मौत कहते है. यह मृत्युलोक है, जो आया है उसे जाना ही होगा, परन्तु समय से पूर्व प्रस्थान दुःख देता है. .. ॐ शांति.

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification