शनिवार, 21 मई 2011

महाभारत - 2 -- महेंद्र श्रीवास्तव करेंगे फैसला

महाभारत -२ प्रतियोगिता में प्रविष्टी भेजने की समय सीमा समाप्त हो चुकी है. इस प्रतियोगिता में मात्र ५ लोग ही भाग ले पाए. ऐसी प्रतियोगिताओ में लोग उत्साह नहीं दिखाते जो चिंता का विषय है. फ़िलहाल हम डॉ. श्याम गुप्ता जी, मंगल यादव जी, शिखा कौशिक जी, शालिनी कौशिक एवं आशुतोष जी का स्वागत करते हैं जिन्होंने इस जंग में अपनी उपस्थिति  दर्ज करायी..

आप लोंगो के लेख निम्नवत हैं. 

भ्रष्टाचार का वास्तविक जिम्मेदार कौन ??विप्लव विकल्प विकास "के द्वारा समाधान- आशुतोष

भ्रष्टाचार का वास्तविक दोषी कौन ?-- शिखा कौशिक

भ्रष्टाचार का वास्तविक दोषी कौन---- शालिनी कौशिक

भ्रष्टाचार का वास्तविक जिम्मेदार कौन ?--मंगल यादव 

महाभारत—२--- भ्रष्टाचार का वास्तविक दोषी कौन ? --डा श्याम गुप्त....

महेंद्र श्रीवास्तव जी हमारे "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" परिवार  के सबसे नए सदस्य हैं. और आप एक अच्छे साहित्यकार, चिन्तक एवं वरिष्ठ पत्रकार हैं. आपको इस प्रतियोगिता का न्यायाधीश बनाया जा रहा है. कृपया २८ मई तक अपना निर्णय अवश्य दे .. धन्यवाद... 
हरीश सिंह
 संस्थापक/संयोजक.
भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

11 टिप्पणियाँ:

शालिनी कौशिक ने कहा…

chaliye hareesh ji ek achchha karya aur aapne anzam de hi diya.

आशुतोष की कलम ने कहा…

jay ho.....mujhe bhi shamil kar liya gaya..

शालिनी कौशिक ने कहा…

kyon aap kya soch rahe the ki hareesh ji aapka haq kha jayenge?are bhai aashutosh ji hareesh ji poorn loktantr me yakeen rakhte hain.

आशुतोष की कलम ने कहा…

nahi nahi shalini ji
जब तक आप जैसी जुझारू मानवाधिकार कार्यकर्ता है इस मंच पर तो क्या मजाल किसी की जो किसी का हक़ मार लें..
आभार

हरीश सिंह ने कहा…

क्यों भाई आशु जी और शालिनी जी, मेरी टांग खिंचाई क्यों हो रही है, आशु जी मेरे खिलाफ आप शालिनी जी को भडकाए मत अच्छा नहीं होगा. हा हा हा बड़ा अच्छा लगा आपलोंगों की चुहलबाजी , परिवार में ऐसा प्रेम दिखाई देना चाहिए ताकि हमें ऐसा लगे की हमारे विचारों में भले ही कभी कभी विरोधाभास हो पर आपसी प्रेम बरकरार रहे.

तीसरी आंख ने कहा…

आप सभी महानुभावों को बधाई

Mangal Yadav ने कहा…

thanks hareesh ji aap ne mujhe es mahabharat me samil k Layak samjha

शालिनी कौशिक ने कहा…

mangal ji aap ko layak samjhna to bad kee bat hai aap to yahan sthan pane ke pahle haqdaron me se hain .aakhir aise vishay par aapne atisheeghra vichar jo vyakt kiye hain jinhe vyakt karne se achchhe achhe peechhe hat gaye.aur fir abhi aapne upar kee tippaniyon me dekha hi hai ki hareesh ji kisi ka haq marne valon me nahi hain .

mahendra srivastava ने कहा…

भाई हरीश जी,
आपको पता है कि मैं कुछ दिन पहले ही ब्लाग की दुनिया में आया हूं। अभी तो यहां चीजों को देख और समझ रहा हूं। ऐसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मुझे दे रहे है, जबकि यहां बहुत सारे लोग मुझसे कहीं बेहतर लिखते हैं और चीजों को समझते हैं। मुझे जज बनाने के अपने फैसले पर दोबारा विचार कर लीजिए। वरना तो जो आप कहेंगे, वो ठीक है।

बेनामी ने कहा…

महेंद्र जी, आप नए ब्लोगर होंगे पर लेखक आप पुराने है. मेरा ख्याल है की चयन मैंने अभी तक गलत नहीं किये हैं. इस बार आप ही जज है. शुभकामना -------- हरीश सिंह

बेनामी ने कहा…

कुछ नेट समस्या की वजह से बेनामी कमेन्ट करना पड़ा
harish singh

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification