शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

उठ रही है आग आज मिरे सीने में !!

उठ रही है आग आज मिरे सीने में 
कि चढ़ रहा है कोई दिल के जीने में !!
धूप है कि सर पे चढ़ती जा रही है
और निखार आ रहा मिरे पसीने में !!
अब यहीं पर होगा सभी का फैसला 
कोर्ट सड़क पर बैठ चुकी है करीने में !!
आओ कि उठ रही ललकार चारों तरफ 
कोई कसर ना बाकी रखो अपने जीने में !!
भले ही कोई गांधी हो ना कोई सुभाष 
इस हजारे को ही बसा लो अपने सीने में !!
अब भी अगर जागे नहीं तो फिर कहना नहीं
कोई बचाने आयेगा नहीं तुम्हारे सफीने में !! 
  

3 टिप्पणियाँ:

Vaanbhatt ने कहा…

bahut khoob...hazare ko hazaron samarthan...

sushma 'आहुति' ने कहा…

उठ रही है आग आज मिरे सीने में... bilkul sahi kaha apne....

हरीश सिंह ने कहा…

achchhi rachna.

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification