शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

शहरीकरण और समाज

नोयडा मे एक फ्लैट में खुद को सात महीने से बंद रखने वाली दो बहनों का मामला उनकी मानसिक अवस्था और बीमारी का तो है ही, हमारे विकास और शहरीकरण तथा समाज के विखंडित होते जाने के प्रभावों की कहानी भी कहता है।

टूट जाती है डोरियां, राखियों की भी तब
मुंह मोड लेता है भाई, बहन की जिम्मेदारी से जब
ना समझ पाये कोई कलाई पर बंधी डोरी का अर्थ
तो फ़िर रक्षाबंधन और भैयादूज के त्योहारों का मतलब ही क्या है?

मिल जाता है मिट्टीयों मे अर्थ, उच्च शिक्षा का भी तब,
घिर जाये अवसादों मे, कुछः गम्भीर स्थितियां आने पर जब
गर ना सिखा पाये लडना हमे, हालतों के आने पर
तो फ़िर ऐसी इन्जिनियर और accauntant की पढाई का मतलब ही क्या है?

मिट जाती है मानवता, क्रूर हो जाती है भावना भी तब 
महीनों से कैद लडकियों  की खबर भी नहीं पडौसी को जब
ना जान सके हम अपने किसी पडौसी का भी दर्द
तो फ़िर ऐसी high profile residential कालोनी का मतलब ही क्या है?

खत्म हो जाते है रिश्तें, बिखर जाता है समाज भी तब 
पर्सनल लाईफ़् के नाम पर, पसंद ना हो किसी की दखलन्दाजी भी जब
ना साझा कर सके संवेदनायें भी, गर किसी के साथ हम
तो फ़िर ऐसे शहरीकरण और विकास की दौड का मतलब ही क्या है?

2 टिप्पणियाँ:

हरीश सिंह ने कहा…

बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके.,
मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

poonam singh ने कहा…

अच्छा तथ्य परक लेख |

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification