मंगलवार, 8 मार्च 2011

कविता लिखते काफी अरसा हो गया




कविता लिखते
काफी अरसा हो गया 
अपने को बड़ा भारी कवी
समझने लगा
गलतफहमी में जीने लगा
भावनाओं का पंडित हूँ
बताने का मौक़ा खोजने लगा
किसी पत्रिका में
कविताओं के छपने का
रास्ता ढूँढने लगा 
तभी एक पुराने कवी से
मुलाक़ात हुई
मनो इच्छा उनको बतायी
उन्होंने फ़ौरन राह दिखायी
पहले कुछ शर्तें लगायी
उन्हें गुरु मानना होगा
उनकी कविताओं की 
तारीफ़ में
,कुछ लिखना होगा
समझ नहीं आये फिर भी
"बहुत खूब"कहना होगा"
मेरी कविताओं को
समझने में जोर लगाना पड़े ,
सम कालीन कविता लगे
इसलिए गूढ़ शब्दों का
समावेश करना होगा

जाल बुनना होगा
 मैंने एक कान से सुना
दूसरे से निकाला
उलटे पैर लौट चला
निरंतर जैसे लिखता था
 आज फिर वैसे ही
लिख डाला
08—03-2011
डा.राजेंद्र तेला"निरंतर",अजमेर
(समकालीन कवियों, 
 उनकी कविताओं को नहीं समझने की 
ध्रष्टता के लिए ह्रदय से क्षमा याचना)

2 टिप्पणियाँ:

हरीश सिंह ने कहा…

सुन्दर रचना आभार

saty bolna paap hai ने कहा…

स्वागत, अच्छी रचना.

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification