शुक्रवार, 25 मार्च 2011

ख्वाब...






जितनी दूरी उतने ख्वाब
फिर भी ना जाने क्यों दिल उदास !
खोने की कोशिश में पाने का अहसास
दिन और रात के संग्राम में
भोर के तारे की आवाज !
फिर भी ना जाने क्यों
म्रत्यु में जीवन का आभास !
डूबती उतरती सांसों में
कहीं एक करुणा भरा आर्तनाद !
फिर भी ना जाने क्यों
गुमनाम अँधेरे में भी रास्तों की तलाश !
जितनी दूरी उतने ख्वाब
फिर भी ना जाने क्यों दिल उदास ......!!



प्रियंका राठौर

3 टिप्पणियाँ:

हरीश सिंह ने कहा…

फिर भी ना जाने क्यों
म्रत्यु में जीवन का आभास !
==================
सुन्दर अभिव्यक्ति, आभार

sushma 'आहुति' ने कहा…

गुमनाम अँधेरे में भी रास्तों की तलाश !
जितनी दूरी उतने ख्वाब...bhut dil ko chune vali kavita hai...

बेनामी ने कहा…

dil ko chune wal laenain likhi hain aap ne

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification