शुक्रवार, 18 मार्च 2011

क्या यह अवार्ड फंक्शन सही है?


अवनीश कुमार
पिछले दिनों गोल्डन केला अवार्ड के नाम से गुडगांव में एक समारोह आयोजित किया गया। जिसमें बॉलीवुड के हर क्षेत्र से सबसे बेकार व्यक्ति को चुना गया। अगर हम सीधे तौर पर देखें तो यह एक समारोह काफी मजेदार कहा जा सकता है। पर यदि इसमें शाहरूख खान व सोनम कपूर को सबसे खराब अभिनय के लिए गोल्डन केला अवार्ड   दिया जाये। वह भी उस फिल्म में अभिनय के लिए जिसके लिए उन्हें फिल्म फेयर का सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिल चुका हो, तो फिर इस पर सवाल उठाना लाजमी है। शाहरूख खान को यह गोल्डन केला अवार्ड माई नेम इज खान के लिए दिया गया। इसके अलावा सोनम कपूर को आयशा के लिए सबसे खराब अभिनेत्री के पुरस्कार के लिए चुना गया। इसके अलावा इस समारोह में निर्देशक से लेकर कोरियोग्राफर तक को पुरस्कार के लिए चुना गया, लेकिन जितने लोगों को अवार्ड के लिए चुना गया, वे सभी लोग शाहरूख खान की तरह ही अपने-अपने क्षेत्र में माहिर लोग हैं और लोग उनको व उनकी फिल्मों को पसंद भी करते हैं।
बहरहाल इस बात को छोड़ते हैं कि किनकों क्या इनाम मिला है। हम बात करते है इस तरह के घटिया अवार्ड समारोह की। जिनके द्वारा इनके आयोजक पैसा कमाते हैं। यह हम सभी जानते हैं कि शाहरुख खान का बॉलीवुड में क्या दर्जा है और वे किस तरह का अभिनय करते हैं। अवार्ड समारोह में जाने के ऊपर पहले भी बहस हो चुकी है। जिसमें अजय देवगन ने कह दिया था कि जो समारोह में जाते हैं उन्ही को अवार्ड मिंलते हैं। पर देखा जाये तो आजकल इतने अवार्ड फंक्शन हो रहे है कि हर किसी के हिस्से में कोई ना कोई इनाम आ ही जाता है। इस तरह के अवार्ड समारोह को आयोजित करवाने का एक ही मकसद होता है। वह है पैसा कमाना। इसलिए अवार्ड फंक्शनों की ब्यार आ गई है। चाहे वह कोई भी चैनल हो, हर कोई अवार्ड सेरेमनी आयोजित कर रहा है। अवार्ड सेरेमनी आयोजित करने में तो कोई बुराई नहीं है, पर इस तरह से किसी अच्छे कलाकार का मजाक उडाना सही नहीं लगता है। इस तरह के अवार्ड सेरेमनी पर प्रतिबंध होना चाहिए। हम सभी जानते है कि जिन कलाकारों को इस समारोह में चुना गया, वह बहुत अच्छे कलाकार हैं। 
इस तरह से इन हीरो हीरोइनों को चुनने का एक कारण इस अवार्ड सेरेमनी को हिट करना भी हो सकता है। यह सब जानबूझकर किया गया है। क्योंकि यदि इस समारोह में शाहरूख खान को न चुनकर किसी नये हीरों को चुन लिया जाता, तो शायद इस फंक्शन के बारे में कोई सुनना या पढ़ना नहीं चाहता। पर चाहे जो भी हो यह बहुत ही घटिया तरीका है। 

3 टिप्पणियाँ:

Manpreet Kaur ने कहा…

हम्म पता नहीं ये केसा कारेकर्म है ! कुछ जादा ही अजीब !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se
Latest News About Tech

योगेन्द्र पाल ने कहा…

सोनम कपूर को सही अवार्ड मिला है,

पाठकों पर अत्याचार ना करें ब्लोगर

हरीश सिंह ने कहा…

होली की बहुत -बहुत शुभकामनाये

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification