बुधवार, 16 फ़रवरी 2011

बसंत --- डा श्याम गुप्त


              बसंत  ----अभी बागों में, वनों में,सुधियों में बगरा हुआ है.....
        ( घनाक्षरी छंद )
        (डा श्याम गुप्त )

गायें कोयलिया तोता मैना बतकही करें ,
कोपलें लजाईं , कली कली शरमा रही |
झूमें नव पल्लव, चहक रहे खग  वृन्द ,
आम्र बृक्ष बौर आये,  ऋतु हरषा रही|
नव कलियों पै हैं, भ्रमर दल गूँज रहे,
घूंघट उघार कलियाँ भी मुस्कुरा रहीं |
झांकें अवगुंठन से, नयनों के बाण छोड़ ,
विहंस विहंस ,  वे मधुप को लुभा रहीं ||

सर फूले सरसिज, विविध विविध रंग,
मधुर मुखर भृंग, बहु स्वर गारहे |
चक्रवाक वक् जल कुक्कुट ओ कलहंस ,
करें कलगान, प्रात गान हैं सुना रहे |
मोर औ मराल,लावा, तीतर चकोर बोलें,
वंदी जन मनहुं, मदन गुण गा रहे |
मदमाते गज बाजि ऊँट, वन गाँव डोलें,
पदचर यूथ ले, मनोज चले आरहे ||

पर्वत शिला पै गिरें, नदी निर्झर शोर करें ,
दुन्दुभी बजाती ज्यों, अनंग अनी आती है |
आये ऋतुराज, फेरी मोहिनी सी सारे जग,
जड़ जीव जंगम मन, प्रीति मदमाती है |
मन जगे आस,  प्रीति तृषा  मन भरमाये ,
नेह नीति रीति, कण कण सरसाती है |
ऐसी बरसाए प्रीति रीति, ये बसंत ऋतु ,
ऋषि मुनि तप नीति, डोल डोल जाती है ||

लहराए क्यारी क्यारी,सरसों गेहूं की न्यारी,
हरी पीली ओडे साड़ी, भूमि इठलाई  है |
पवन सुहानी, सुरभित सी सुखद सखि !
तन मन हुलसे, उमंग मन छाई है |
पुलकि पुलकि उठें, रोम रोम अंग अंग,
अणु अणु प्रीति रीति , मधु ऋतु लाई है |
अंचरा उड़े सखी री,यौवन तरंग उठे,
ऐसी मदमाती सी, बसंत ऋतु आई है ||

                 -----डा श्याम गुप्त

4 टिप्पणियाँ:

हरीश सिंह ने कहा…

आदरणीय डॉ. श्याम गुप्ता जी, आप यहाँ पर आये वह भी एक सुन्दर रचना के साथ आपका दिल से स्वागत, आपने हमारे निमंत्रण का मान रखा इसके लिए हम आपके ऋणी है. हम एक अपना ब्लॉग परिवार बनाना चाहते हैं. हमारी मंशा पद की जिम्मेदारी देकर किसी को भी दायरे में नहीं बाँधने की नहीं है . परिवार में बड़ा वही कहा जाता है जो अपनी जिम्मेदारी सही ढंग से निभाता है. इस ब्लॉग में सहयोग देने वाले बराबर की जिम्मेदारी लेंगे. परिवार में जो सदस्य बड़ा है. उसका सम्मान होता है. आप सभी लोग हमसे बड़े है, हम आप सभी का सम्मान करते हैं. जहा प्यार होता है, तकरार भी वही होता है. यदि सभी एक दूसरे की भावनाओ का सम्मान करेंगे तो हर तकरार के बाद प्यार और बढ़ता जायेगा. एक दिन हमारा परिवार बहुत बड़ा और बहुत ही मजबूत होता जायेगा. आप सभी अपने को इस परिवार का मुखिया मानकर इस परिवार को मजबूत बनाये यही मेरी कामना है. इस परिवार में कभी किसी भी पद का बंटवारा नहीं होगा. अपनी अमूल्य राय से हमें हमारी भूलो का एहसास कराते रहे. धन्यवाद.

Dr. shyam gupta ने कहा…

एक शानदार वक्तव्य व मन्तव्य...बधाई हरीश जी

हरीश सिंह ने कहा…

thanks gupta ji.

saurabh dubey ने कहा…

धन्यवाद आपने मुझे इस काबिल समझा

Add to Google Reader or Homepage

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes | cna certification